हिटलर को लेकर हुआ चौका देने वाला खुलासा, नहीं हुई थी इस तरह से मौत…..

वरिष्ठ सीआइए जासूस बाब बैर ने सबको चौंका दिया जब उन्होंने एक भरी सभा में कहा कि अडॉल्फ हिटलर ने अपनी मौत का नाटक रचा एक पनडुब्बी में दक्षिणी अमेरिका कूच कर गया ता टेनेरिफ के रास्ते । टेनेरिफ स्पेन के कैनेरी द्वीपों पर है, जो पश्चिमी अफ्रीका महाद्वीप के अंग हैं ।
यह पर्यटकों के लिए आधुनिक समाज में बड़ा आकर्षण का केंद्र है । समझा जाता है कि अपनी धर्मपत्नी इवा ब्राउन के साथ आर्य हिटलर ने अपने बंकर में आत्महत्या कर ली थी । पर प्रस्तुत अभिलेख से पता लगता 1965 की तरफ सेन अंटोनियो अर्जेटिना में था एवं उन्हें अस्थमा एवं यूलोरिया नाम की बीमारियों ने जकड़ रखा था । मूँछें मुंडवा ली थी एवं ऊपरी ओष्ठ में कुछ परेशानी थी । अभिलेख अधिक साफ नहीं हैं व जासूसों के नाम काले रंग से छुपा दिये गये हैं । बाब एवं उनके दल ने पहले न देखे गये अभिलेख (never-before-seen document) को प्रकाशित कर दिया है जिसका एक हिस्सा हम अपने सूत्रों से आपको दिखा पा रहें हैं । बाब ने कहा इतिहास का सबसे बड़ा शैतान मित्र देशों के बड़े हमले के बाद भी जीवित रह गया और बाद में भी!!!!!
पनडुब्बी से पहले की यात्रा हिटलर ने लफ्तवाफे के विमान से की थी । वह फोर्थ रीच नामक सुरक्षित सैनिक शिविर गये । वहाँ से पनडुब्बी पकड़ी । बाब बैर ने सार्जेंट टिम कैनेडी के साथ काम किया है जिसने ओसामा को पकड़ने में भूमिका निभाई थी । उन्होंने यहाँ तक कह डाला सरकार झूठ की सूत्रधार है, अगर आप एफबीआई की फाइलें देखो तो सच सामने आता है । “700 पन्ने के अभिलेख में हम सिर्फ यहाँ दो पन्ने ही दे पा रहे हैं ।” आइये अभिलेखवार बतायें आपको इनमें क्या है
ब्रिटिश खुफिया विभाग: लुफ्तवाफे के पायलट थे कैप्टन पीटर बोम्गार्ट जिन्होंने हिटलर को बर्लिन से बचाया । जर्मन प्रपत्रों में तो यहाँ तक है कि अमेरिका के अधिकारियों को तो हिटलर का पार्थिव शरीर या उनकी मृत्यु से जुड़े कोई स्रोत आज तक नहीं मिले । (आज तक शब्द की तिथि समाचार लिखे जाने तक उपलब्ध नहीं हो सकी) रूसी सेना का कहना जो शरीर उन्हें मिला वो हिटलर की लंबाई से 5″ छोटा था और उसकी कपाल भी छोटी थी । प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है तहखाने से निकलने के लिए वहाँ पाँचवा रास्ता भी मिला था । ग्रीस के भूतपूर्व राजमिस्त्री जान का कहना है कि 1945 में सैमॉस की मानेस्टरी में एक रहस्यमय निर्माण उन्होंने किया था । उन्होंने नाजियों हेतु एक सुरंग व कमरे बनाये । उनमें से एक हिटलर था बिना मूँछ का यह 1945 था । मैनें उसे उसके विमान से पहचाना ।
राजमिस्त्री जान का कहना है कि मैं दूसरे कस्बे में काम करने गया वहाँ पाया एक पुराने आलू के खेत में जर्मन विमान खड़ा था, वहाँ मौजूद किसान ने मुझसे कहा कि यह जर्मन आये हैं ।
उन्होंने कहा कि अब आत्महत्या का झूठ धुल चुका है । इसके बाद अब सवाल डेमोक्रेटिक पार्टी पर भी उठ सकते हैं क्योंकि ओबामा के कार्यकाल के खत्म होते समय यह सच सामने लाया गया । विश्व युद्ध के समय भी डेमोक्रेटिक सरकार थी । बहुत सी सच छुपाने की अपवाहों का आरोप इन पर लगा है । ट्रम्प के परदादा जर्मन हैं यह भी एक जानने योग्य बात है और इनके चाचा ने मित्र शक्तियों की मदद की थी रडार तकनीक में ध्रुव शक्तियों के विरुद्ध । ट्रम्प विरोधी रिपब्लिकन के अगले होने वाले राष्ट्रपति हैं जिनका परिवार धुर हिटलर विरोधी व अमरीका का पक्षधर रहा । परंतु अधिकतर बड़े अभियान डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति के कार्यकाल में ही होते हैं गद्दाफी, ओसामा, विश्व युद्ध व आइएस का उदय एवं बढ़ना, सद्दाम की शक्ति का उदय व बढ़ना!!!!! रिपब्लिक पार्टी के आने के बाद हमें इतिहास के कितने राज देखने को मिलेंगे यह तो 20 जनवरी के बाद पता चलेगा ।

Comments

comments