नहीं चाहये बिना मेहनत का सम्मान, द्रविड़ ने यह उपलब्धि लेने से किया इनकार

टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी और पूर्व कप्तान राहुल द्रविण ने बेंगलुरु यूनिवर्सिटी की मानद डॉक्टरेट की उपाधि लेने से मना कर दिया है। द्रविड़ ने उपाधि लेने से मना करते हुए कहा कि वह खेल के क्षेत्र में रिसर्च करके खुद यह डिग्री हासिल करेंगे।

बता दे, राहुल द्रविड़ बेंगलुरु में ही पले-बढ़े हैं और यही से पढाई की है। यूनिवर्सिटी ने 27 जनवरी को अपने 52वें दीक्षांत समारोह में द्रविड़ को मानद डॉक्टरेट डिग्री देने की पेशकश की थी। विश्वविद्यालय के कुलपति बी थिमे गौड़ा ने एक बयान में कहा कि राहुल द्रविड़ ने मानद उपाधि के लिए उन्हें चुने जाने पर बेंगलुरु विश्वविद्यालय का शुक्रिया अदा करने के साथ यह संदेश दिया है कि वह मानद उपाधि लेने के बजाय खेल के क्षेत्र में अनुसंधान करने में किसी तरह का शिक्षण कार्य पूरा करके डॉक्टरेट की डिग्री हासिलकरना चाहते हैं।

द्रविण आजकल इंडिया ‘ए’ और अंडर-19 टीम के कोच के रूप में युवा क्रिकेटरों की प्रतिभा को निखार रहे हैं।’क्रिकेट की दीवार’ कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने क्रिकेट की फील्ड में एक बड़ा योगदान दिया है। द्रविण ने 2012 में इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया था।

loading...

Comments

comments