देशी पैकेट में विदेशी माल बेचने के आरोप में बाबा रामदेव की कंपनी पर लगा 11 लाख रूपए का जुर्माना

नई दिल्ली: कोर्ट ने खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत रामदेव की कंपनी पतंजलि योगपीठ पर 11 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था। इस मामले में कंपनी ने 15 दिनों का समय मांगा है। पतंजलि योगपीठ ने इस संबंध में न्यायालय में प्रार्थना पत्र दिया है। ज‌िसे स्वीकार द्वारा स्वीकार कर लिया गया है।

एडीएम कोर्ट ने विगत एक दिसंबर को मिथ्या छाप (मिस ब्रांडिंग) एवं भ्रामक प्रचार के पांच मामलों में दोषी पाए जाने पर पतंजलि योगपीठ की पांच उत्पादन यूनिटों पर 11 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था। पतंजलि को जुर्माने की यह धनराशि एक महीने के भीतर जमा करने के आदेश दिए गए थे। अब पतंजलि की ओर से इस बारे में आगे की कार्रवाई से बचने के लिए एडीएम कोर्ट में प्रार्थनापत्र देकर निर्णय का अनुपालन की अवधि तीन दिन तक बढ़ाने का आग्रह किया गया है।

वजह दी गई है ताकि वे इस कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील में जा सके। एडीएम न्यायालय में प्रार्थनापत्र को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया गया है। बता दें कि कुछ दिनों पहले बाबा रामदेव की कंपनी पर टैक्स चोरी का आरोप लगा है जिसके चलते कंपनी को छह लाख 83 हजार 400 रूपये का नोटिस भेजा गया है। अपर जिलाधिकारी की ओर से भेजे गए नोटिस में एक सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा गया है।